children story in hindi

बच्चों की कहानियां Children Story in Hindi | Kahaniya in Hindi

अगर आपको ऐसी कहानियाँ अच्छी लगती हैं जो बच्चों को अच्छी शिक्षा दे तो आप सही जगह पर आए हैं क्योंकि आपको ऐसी कहानियाँ यहा पर भर-भर के मिलने वाली हैं। यदि आप चाहते हैं की आपके बच्चे कुछ नया करें और महान व्यक्ति बने तो आपको भी कुछ उनके लिए ऐसा करना होगा। की वे मोज मस्ती करते हुये वे अच्छी शिक्षा प्रप्त करें। तो आपको उनको ये कहानिया जरूर पढ़ना चाहिए, जिससे आपके बच्चे कहानियों के मध्यम से अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सके।

( 2 ) लकड़ियों का गट्ठर Children Story in Hindi 

यहां कहानी उन तीन लड़को की हैं जो हमेश आपस में लड़ते झगड़ते रहते थे। किसी गाँव में एक अमीर किसान रहता था उसके तीन लड़के थे जो हमेश आपस में लड़ते झगड़ते रहते थे। किसान अपने बेटों से बहुत दुखी रहता था।
उसे हमेश यही चिंता रहती थी की मेरे मरने के बाद मेरे लड़को का क्या होगा। 
एक दिन किसन ने अपने तीनों लड़को को बुलाया और कहा की मेरे मरने के बाद तुम लोग अपसा में मिल जुल कर रहना इसी में तुम लोगो की भलाई हैं!
Kahaniya in Hindi
तीनों लड़के अपने पिता की बात सुन कर रोने लगे बेटों को रोता देख किसना बोला की मेरे पास जितना भी धन हैं वह सब मैं अपने उस लड़के को दुगा जो सामने पड़े इस लकड़ी के गटठार को अपने हाथो से तोड़ देखा।
तीनों लड़के बहुत ही स्वस्थ और हट्टे-कट्टे थे उन तीनों ने बारी- बारी से लकड़ी के गट्ठर को तोड़ने की कोशिस करी लकीन किसी भी लड़के ने उस लकड़ी के गट्ठर तोड़ नही पाया ।
Children Story in Hindi
अब किसना बोला की इस लकड़ी के गट्ठर को खोल दो जैसे ही लड़को ने लकड़ी के गट्ठर को खोला सभी लकड़ी अलग-अलग हो गई। फिर किसान बोला की अब तुम इन लड़ियो को तोड़ दो? 
पिता की बात सुन कर एक लड़के ने गट्ठर की सभी लकड़ियो को तोड़ दिया। पिता ने कहा अपने लड़को से कहाँ की अगर तुम लोग एक साथ रहोगे तो  तुम्हें कोई भी हारा नहीं पाएगा।
Children Story in Hindi
अगर तुम साथ मिल जुल कर रहो तो तुम सभी लोगो से जीत सकते हो अगर तुम इसी तरह आपस में लड़ते रहे तो तुम्हें कोई भी हारा सकता हैं । अब लड़को को समझ में आ चुका था की आपस में मिल जुल कर रहने से हमारी शक्ति बाड़ जाती हैं । इसके बाद कभी भी तीनों लड़को ने आपस में लड़ाई झगड़ा नहीं किया।
शिक्षा: एकता में ही हमरी शक्ति हैं, संघटिता

( 3 ) गाने वाली बुलबुल Children Story in Hindi

कहानी :एक  समय की बात हैं जब जंगल में वसंत का मौसम था और सभी जानवर वसंत के सुहावने दिनों का आनंद ले रहे थे।

उसी जंगल में एक बुलबुल भी रहती थी जो वसंत के मौसम में दिन भर गाना गाती और खूब मोज़ मस्ती करती रहती वसंत के मौसम में पूरा जंगल हारा भरा और फलों फूलों से भरा रहता था। इसलिए बुलबुल दिन भर गाना गाती और भूख लगाने पर पेड़ से फल फूल तोड़ कर खा लेती वसंत के मौसम में बुलबुल ने खूब मोज़ मस्ती और गाना गया, लेकिन कुछ दिनों बाद वसंत का मौसम  धीरे-धीरे चला गया और सर्दियों का मौसम  शुरू हो गया ।
Children Story in Hindi
जड़े के मौसम में तेज सर्दी हवाओ से पेड़ से फल फूल गिरने लगे ओर कुछ ही दिनों में पूरा जंगल बर्फ से ढक गया जीतने भी पेड़ थे उन सभी के ऊपर बर्फ की एक मोती परत जाम गई।

अब बुलबुल के पास खाने के लिए कुछ भी नहीं बचा वह भूख के मारे जंगल में इधर-उधर भागने लगी। तभी उसकी नजर एक गिलहरी पर पड़ी जो अपने घोसले में बैठ कर ठंड मौसम का आनंद ले रही थी और खाना खा रही थी।
क्योंकि  गिलहरी ने गर्मियों और वसंत के मौसम में कड़ी मेहनत करके सर्दियों के दिनों के लिए काफी प्रायप्त मात्रा में भोजन इकट्ठा कर लिया था।
बच्चों की मनोरंजक कहानियाँ
बुलबुल तुरंत गिलहरी के पास गई और गिड़गिड़ने लगी  और कुछ दिनों के लिए खाना उधर मगने लगी,  गिलहरी ने साफ माना कर दिया। 
Children Story in Hindi
गिलहरी ने बुलबुल से पूछा की तुमने वसंत में सर्दियों के लिए कुछ भोजन इकट्ठा नहीं किया था जो तुम मुझसे भोजन उधर मांग रही हो, इस बार तो वसंत में बहुत फल फूल आए थे क्या कर थे वसंत में जो सर्दियो के लिए भोजन  भोजन इकट्ठा नहीं किया?
बच्चों की कहानियां
बुलबुल ने अपना सिर नीचे झुका कर कहा की मैं वसंत के मौसम में गाना गाती और मोज़ मस्ती करती रही।!
गिलहरी ! ने कहा जब तुम वसंत के मौसम में गाना गाते रहे तो अब तुम सर्दियो में इसी तरह नाचते रहो ?
चलो भागो हमरे घर से न जाने कहा कहा से लोग चले आते हैं।
Kahaniya in Hindi
बुलबुल ने जब गिलहरी की बात सुनी तो उसे बहुत गुसा आया पर वह कर भी क्या सकती थी उसने चुप-चाप अपना सिर नीचे झुकाया और गिलहरी के घर से चली गई।
Children Story in Hindi
शिक्षा: हमें मुसीबत के दिनों के लिए  कुछ धन बचाकर रखना चाहिए। जब भी आपको कोई अवसर मिले तो उसका फयदा जरूर उठाए। हमें आने वाले दिनों के लिए रोज कम करना चाहिए।

( 4 ) साँप और बूढ़ा व्यक्ति (Children story in hindi) 

कहानी :  यहाँ कहानी उस समय की हैं’ जब एक बूढ़ा सर्दियों के मौसम में जंगल के रास्ते होते हुये वह अपने घर जा रहा था, जब बूढ़ा व्यक्ति घाने जंगल के बीचों बीच पाहुचा तो उसको एक नदी दिखाई दी वह नदी सर्दियों के मौसम के कारण पूरी तरह से बर्फ जाम चुकी थी, बर्फ के सथा नदी में रहने वाला एक साँप भी जाम चुका था और बहुत सारी मछलिया भी पानी में जाम चुकी थी।

अब उस बूढ़े व्यक्ति ने जल्दी-जल्दी बर्फ से माछीलियाँ निकली और अपनी झोरी में भरने लगा।
बूढ़ा व्यक्ति बहुत ख़ुश हुआ क्यू की घर ले जाने लिए उसके पास कुछ नहीं था अब उसके पास नदी की बेहद लजीज मछलियाँ थी जो बेहद कीमती थी।

जब वह बूढ़ा व्यक्ति जाने लगा तो उसे एक साँप दिखाई दिया जो ठंड के मारे बर्फ से जाम चुका था इस हालत में साँप को देखा कर बूढ़ा व्यक्ति को साँप पर दया आ गई ।

अब उस व्यक्ति ने उस साँप को भी अपने मछली के झोले में रख लिया। जब बूढ़ा व्यक्ति अपने घर पाहुचा तो उसने अपनी पत्नी से कहा की आज जब मैं खाली हाथ घर आ रहा था तो मुझे रास्ते में नदी में बर्फ से जमी मछलियाँ मिली हैं जो बेहद बड़ी हैं और  उन मछलियों का मांस बेहद लजीज हैं । तो आज तुम इन्ही मछलियों को खाने में पकाना और हम सब लोगो इन्ही मछलियों का बेहद लजीज मांस खाएगे।

 ये कहकर बूढ़ा व्यक्ति घर के अगन में चला गया और आग जलाकर अपने हाथ पैर सेकने लगा, क्यू की सर्दियो का मौसम था और बेहद जड़ा भी था, बूढ़ा व्यक्ति अपने हाथ पैर को सेक ही रहा था की इतने में उसका छोटा पुत्र (बेटा) झोरी से बर्फ से जमे साँप को निकाल कर आग के किनारे खेलने लगा।

जब साँप को तेज उस्मा (आग) लगी तो वह जिंदा होने लगा और कुछ देर बाद वह आग की तेज उस्मा से वह पूरी तरह से जिंदा हो गया।

लड़के को सामने देख साँप ने अपना फन ज़ोर से ऊपर उठाया और लड़के को काटने के लिए आगे बड़ा इतने में उस बूढ़े व्यक्ति की नजर साँप पर पड़ी तो उसने तुरंत आग से जलता हुआ लकड़ी निकली और साँप के मुंह पर दे मारी, अब साँप का मुंह आग से जाल गया ओर साँप वही पर मर गया।

शिक्षा: किसी का स्वभाव नहीं बदल सकता हैं? अगर तुम किसी जहरीले साँप को पलते हो तो एक न एक दिन वह तुमको जरूर डसेगा क्यू की उसका स्वभाव ही ऐसा हैं।

हमें ऐसे दोस्त बनाने चाहिए जो हमरे बुरे वक्त में साथ दे। ऐसे दोस्त कभी नहीं बनाए जो आपके सामने आपकी चापलूसी करते हैं और समय आने पर वे आपको भी नहीं छोडते हैं, ऐसे दोस्त एक साँप की भाति होते हैं जो आपको कभी भी ढ़स सकते हैं।

( 5 ) बर्फीले जंगल का बहादुर सिपाही Story For kids in Hindi 

यह कहानी एक छोटे से गाँव की हैं जहा एक छोटा सा लड़का रहता था वह हमेश सभी से कहता रहता की मैं बड़ा होकर एक बहादुर सिपाही बानुगा। 
Children Story in Hindi
उसकी बातें सुन कर गाँव वाले उस पर बहुत प्रसन होते और उसे सभी गाँव वाले बहुत प्यार करते थे।
एक दिन वह लड़का अपना गाँव छोड़ कर शहर में रहने चला गया, कुछ साल बीतने के बाद वह लड़का जवान होने लगा उसका शरीर बहुत ही कटीला मानो उसकी बॉडी में  किसी ने शक्ति भर दी हो, जब वह लड़का 18 साल का हुआ तो उसका शरीर बहुत ही मजबूत सुंदर और नौजवान हो चुका था।
उस लड़के ने अपने ही शहर में एक फौजी की नौकरी कर ली एक दिन उस लड़के की पोस्टटिंग बर्फीले जंगल में हो गाई ।
Kahaniya in Hindi
जब वह अपने सिपाहियो के सथा बर्फीले जंगल के अंदर जा रहा था की तभी अचानक आतंगवादियों ने उस उन सभी के ऊपर हमला कर दिया और चरों तरफ बंदूक की गोलियां दागने लगे।
अचानक हुये हमले से उसके सभी सिपाही साथी मारे गए अब वह जंगल में केवल अकेला ही बचा और दूसरी तरफ आतंगवदी उसके सभी सिपाहियो चुन-चुन कर मर रहे थे जो बंदूक की गोली लानगे से घाल हो गए थे।
अब उसके पास एक ही रास्त था या तो वह अपने सभी साथी सिपाही को मरने के लिए अकेले ही छोड़ देता यह फिर वह अकेले ही इन सभी आतंगवादियों से लड़ते हुये देश के लिए शहीद हो जाता।
Children Story in Hindi
उसका एक मन कहा रहा था की चलो यहा से भाग चलते हैं तुम अकेले इन सभी आतंगवादियों  से नहीं लड़ सकते बल्कि सिपाही भागा नहीं और वह विचार करने लगा की इन सभी आतंगवादियों  से अकेले कैसे लड़ा जाये। तभी उसके दीमक में एक विचार आया क्यू न सभी बंदूकों को एक रस्सी के सहारे बांध कर अगर हमला किया जाये तो सभी आतंगवादियों  के दीमक में दर पैदा किया जा सकता हैं की अभी भी बहुत से सिपाही जिंदा हैं, जो बंदूक की गोली दाग रहे हैं।
बच्चों की कहानियाँ
उसने ऐसा ही किया उसने जल्दी-जल्दी जमीन पर पड़ी सभी बंदूकों को उठाया और पेड़ के सहारे रस्सी से बांध दिया और दूर बैठ कर रस्सी से बंदूक की गोली दागने लगा। इतनी सारी बंदूक की गोली की आवाज एक साथ सुनकर आतंगवदी बहुत डर गए और वे जंगल छोड़ कर अपने देश वापश भाग लगे तभी सिपाही ने बड़ी होशयारी से पीछे से एक आतंगवदी को पकड़ लिया और चुपके से उसके बैग में बंम रखा दिया और उस आतंगवदी को ज़ोर-ज़ोर से दो बंदूक की पेटी मारी और कहा की भाग जाओ हमरे देश से ये कहकर सिपाही ने उस आतंगवदी को छोड़ दिया।
बच्चों की मनोरंजक कहानियाँ
और जब आतंगवदी अपने सभी साथियो के पास पाहुच तो उसने सिपाही की सारी बात दी इससे पहले आतंगवदी कुछ समझ पते की सिपाही ने अपना बंम का रीमोट दबा दिया। और सभी आतंगवदी  मारे गए।
Kahaniya in Hindi
इस तरह से उसने अपने देश की रक्षा की और अपने बचे हुये सभी सिपाहियों की जान बचा ली। अब उसके सभी सिपाही दोस्त उसे बहादुर सिपाही कहके पुकारते हैं।
Children Story in Hindi
शिक्षा:  हमें किसी भी परिस्थिति में हर नहीं मानना चाहिए। बल्कि हमें उस समस्या को हल कैसे किया जाये इसके बारे में सोचना चाहिए।
Comming Soon...

Post a Comment

Previous Post Next Post