Nipah Virus Vaccine Name In Hindi | निपाह वारयस दवाई का नाम क्या हैं?

Nipah Virus Vaccine Name In Hindi | निपाह वारयस दवाई का नाम क्या हैं?

निपाह वायरस एक तरह का जानलेवा और दुनिया का सबसे खतरनाग नया वायरस हैं जिसे काम्पुंग सुंगई निपा में पाया गया था। मलेशिया और चीन के कई लोग काम्पुंग सुंगई निपा में रहते हैं, निपाह वायरस को 1998 में NiV M नाम से मलेशिया में तथा 2004 में NiV B नाम से बांग्लादेश में और अब केरला में एक लड़के की मृत्यु निपाह वायरस से हुई हैं। सूअर एव चमगादड़ो से निकला हैं निपाह वायरस जो संक्रमित जानवरों तथा संक्रमित मनुष्य के आस पास रहने से यह संपर्क रखने से मनुष्य से मनुष्य में फैलता हैं। अभी तक इस निपाह वायरस कि दवाई नहीं बन पाई हैं कई देशों के वैज्ञानिक इस nipah virus vaccine की खोज में लगे हुए हैं। निपाह वायरस के कुछ मुख्य लक्षण बुखार, खांसी, सिरदर्द, सांस की तकलीफ आदि से थोड़े भिन्न होते हैं सूअर और टेरोपस जीन्स नामक चमगादड़ के नस्ल से निकला निपाह वायरस nipah virus की मुख्य vaccine अभी तक नहीं मिल पाई हैं, जिससे मनुष्य को फायदा हो। 
Nipah Virus Vaccine Name In Hindi

Nipah virus किस नस्ल के चमगादड़ में पाया जाता हैं? 

चमगादड़ के नाम से आप सभी भली भांति परचित होंगे लकिन अगर आपको नाम के आधार पर चमगादड़ो से परचित नहीं हैं तो ये आर्टिकल आपकी जरूर मदत करेगा। अगर आप भारत जैसे देश में रहते हैं तो यह के चमगादड़ो को भारतीय उड़नलोमड़ी (Pteropus giganteus) के नाम से जाना जाता हैं।  चमगादड़ो के करीब 100 वंश genus हैं और सभी के अलग अलग रंग रूप बनावट के आधार पर इनकी नस्ल को अलग किया जाता हैं । 
सन 2004 बांग्लादेश में संक्रमित टेरोपस जीन्स नामक नस्ल के चमगादड़ से दूषित खजूर के रस का सेवन करने से एक व्यक्ति को निपाह वायरस संक्रमण हुआ था और इसी खास किस्म की नस्ल टेरोपस जीन्स नामक चमगादड़ से निपाह वायरस की शुरवात हुई थी। 

निपा virus किस जानवर में पाया जाता हैं?

अगर देखा जाए तो इंडिया में 20% लोग बीफ (सूअर का मांस) का सेवन करते हैं, अच्छी प्रोटीन प्राप्त करने के लिए लेकिन वही इस संक्रमित सूअर से ऐसे बीमारी भी पैदा हो सकती हैं जो मनुष्य के जीवन को संकट में डाल सकती हैं। सन 1998 में मलेशिया एक संक्रमित सूअर से एक ऐसी बीमारी पैदा हुई थी जिसकी अभी तक कोई vaccine नहीं बन पाई हैं। निपाह वायरस संक्रमित सूअर से निकला वह संक्रामण हैं जो संक्रमित व्यक्ति से व्यक्ति में तथा संक्रमित जनवारों में जानवरों में फैलता हैं। nipah virus सबसे पहले 1998 में संक्रमित सूअर पाया गया था। 

Nipah Virus Symptoms in Hindi| निपाह वायरस के लक्षण 

अगर कोई भी व्यक्ति निपाह वायरस से संक्रमित हैं तो उसमें निम्न लक्षण हो सकते हैं।  तेज बुखार, खांसी, सिरदर्द, सांस की तकलीफ आदि से थोड़ा अलग होगा, इसके लक्षण मुख्य रूप से करोना वायरस से मिलते जुलते हैं लेकिन निपाह वायरस में थोड़ा बहुत लक्षण भ्रम से थोड़े अलग होगे। 
अब आप सभी तो कहेगे कि हर व्यक्ति को बुखार, खांसी, सिरदर्द, सांस की तकलीफ आदि रहती हैं तो क्या सभी को निपाह वायरस हो गया हैं तो इसका जवाब हैं बिल्कुल भी नहीं लेकिन अगर देखा जाए तो मुख्य रूप से यही लक्षण पाए गए हैं। 

Nipah Virus Structure | निपाह वायरस की संरचना 

डबल्यूएचओ ने अपने एक आर्टिकल में निपाह वायरस को 10 खतरनाग वायरस की सूची रखा हैं डबल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार निपाह वायरस से संक्रमित मनुष्य की 40% से 75% फीसदी तक मौत हो सकती हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा हैं की अभी तक इस निपाह वायरस की कोई वैक्सीन नहीं बन पाई हैं। 

1 Comments

Post a Comment